ajad log

Just another weblog

250 Posts

727 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 1601 postid : 790

क्या ब्राह्मण अपना धर्म भूल गये है ?

Posted On: 15 Jan, 2012 पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

इस लेख को लिखते समय मै किसी जाती विशेष पर टिप्पणी नही कर रहा हूँ और न ही किसी जाती के खिलाफ कूछ लिख रहा हूँ चुकी मै ब्राह्मण को किसी एक जाती का नही मानता मेरा मानना है की ब्राह्मण वह है जो कर्म से ब्राह्मण है वही ब्राह्मण है न की जन्मजात से कोई भी ब्राह्मण या फिर किसी भी वर्ग का हो सकता है .
लेख आरम्भ
आज सनातम संस्कृति का पतन हो रहा है पाश्चात्य संस्कृति हमारे देश में बढ़ रही है तेज़ी से इस्लाम ,ईसाइयत फ़ैल रही है हिन्दुओ के संस्कार शिक्षा ख़त्म हो रहे है . बड़े ,छोटे का सम्मान ,इज्जत सभी कूछ भारतीय आर्य पुत्र तेज़ी से भूल ही नही रहे बल्कि उसका उपहास उड़ाने में लगे है . जिस तेज़ी से मैकाले की शिक्षा का परचार ,प्रसार हो रहा है जिस तेज़ी से अंग्रेजी संस्कृति हम पर हावी हो रही है उसका एक सपष्ट कारण सरकारों का भारतीय संस्कृति में विशवास न रखना हो सकता है माँ बाप का अपने बच्चे को सकर्ट ,कोट पेंट में बड़ा बाबू बनता देखना हो सकता है . लेकिन मै इसका एक बड़ा कारण हमारे देश के सबसे सम्मानित वर्ग ब्राह्मण को मानता हूँ athvaa किसी भी मंदिर के पुजारी को मानता हूँ . चुकी ब्राह्मण या पुजारी का कार्य केवल मंदिर की देखभाल कर पैसा कमाना भर रह गया है . हवन करवाकर पैसा कमाना , कर्म काण्ड करवाकर पैसा कमाना , जागरण या सत्संग करवाकर पैसा कमाना . मुझे लगता है ब्राह्मण अपना धर्म भूल गये है भारतीयों में तेज़ी से भारतीय शिक्षा संस्कारों का पतन मुझे लगता है ब्राह्मण धर्म भूलने की वजह एक बड़ी वजह है . चुकी एक ब्राह्मण का काम सनातम शिक्षा के ज्ञान को फैलाना , भारतीय संस्कृति को बढ़ाना है , हिन्दुओ को अधिक से अधिक गीता का ज्ञान देना , वेद शास्त्रों का सार समझाना है , गौ का महत्व बतलाना है . लेकिन आज ब्राह्मण वर्ग किस और जा रहा है जिस ब्राह्मण वर्ग का कार्य भारतीय शिक्षा ,चिकित्सा को बढ़ाना रहा है , कमजोर प्राणियों में नई चेतना फूकने का रहा है , करूर राजाओं को चेताने का रहा है वह आज क्यों केवल पैसो /strong> को ही सवोपरी मान रहा है . मै एसा इसलिए कह रहा हूँ अथवा लिख रहा हूँ की समय -समय पर ब्राह्मणों ने ही इस देश को क्स्रुर राजाओ की सत्ता से मुक्ति दिलाई है इसका सबसे बड़ा उदाहरन चाणक्य है वर्तमान में भी बाबा रामदेव जी जो की जन्म से ब्राह्मण नही परन्तु कर्म से सो फीसदी ब्राह्मण है और इस देश का स्वाभिमान जगाने में लगे है. लेकिन एसे भी हजारो ब्राह्मण पुजारी है जो देश की फ़िक्र नही कर रहे और समाजिक बन्धनों में ,आधुनिकता में असक्त हो चुके है स्वार्थी हो चुके है . ब्राह्मण ही इस देश को ज्ञान दे सकते है फिर से सनातम संस्कृति को विश्व में फैला सकते है ,फिर से सनातम धर्म की रक्षा के लिए आगे आ सकते है लेकिन लगता है उनकी दिलचस्पी मात्र पैसा कमाने में है न की भारतीय संस्कृति की जड़ो को मजबूत करने की . अतः मेरा निवेदन है जो भी खुद को ब्राह्मण मानता है कर्म से या जन्म से वह अपना धर्म निभाये और कम से कम अपने गाव के शहर के १० लोगो में आर्यपुत्र होने का इस भारतभूमि का पुत्र होने का स्वाभिमान जगाये यही मात्र भूमि की सच्ची सेवा होगी और सच्चा ब्राह्मण धर्म भी .

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.67 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

संजय के द्वारा
July 23, 2012

ये जानना भी जरूरी है ,की ब्राह्मण ने देश को बहुत कुछ दिया अंत मे इस समाज मे ब्राह्मणो की क्या हालत है,कर्मकांड के अलावा ब्राह्मणो ने  बहुत गुण निभाए है,उसको जानकर भी उसको अछूत सा बनाया जा रहा है वर्तमान हालत मे,समाज मे यह जानना भी बहुत जरूरी क्या ब्राह्मण की क्द्र है अब इस समाज मे

dineshaastik के द्वारा
January 18, 2012

सुन्दर व्याख्या. बधाई… कृपया इसे भी पढ़े… आयुर्वेदिक दिनश के दोहे भाग-2 http://dineshaastik.jagranjunction.com/2012/01/17/%e0%a4%86%e0%a4%af%e0%a5%81%e0%a4%b0%e0%a5%8d%e0%a4%b5%e0%a5%87%e0%a4%a6%e0%a4%bf%e0%a4%95-%e0%a4%a6%e0%a4%bf%e0%a4%a8%e0%a5%87%e0%a4%b6-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%a6%e0%a5%8b%e0%a4%b9%e0%a5%87/

akraktale के द्वारा
January 15, 2012

विकास जी नमस्कार, आप का मंतव्य तो बिलकुल ही ठीक है. किन्तु आज की पारिस्थि में यह अधिक प्रायोगिक नहीं लगती. जहां आज के समाज में जाति से ब्राम्हण उस स्थिति में ही नहीं है जिसकी कल्पना आपने की है. फिरभी अखिल हिन्दू समाज यदि धर्मांतरण रोक सके तो यही बड़ी उपलब्धि होगी. आभार.

vishleshak के द्वारा
January 15, 2012

आपकी सोच कदाचित सही है कि ब्राह्मण अपना धर्म भूल गए है ।वे भी सांसारिक होकर भोग विलास में लिप्त हो गए है ।शायद यह काल का प्रभाव है ।किसी भी विद्यालय में पढ़ाई का माहौल नहीं है ।जो पढ़ रहे है,उन्हे रोजगार नहीं मिल रहा है और जो पढ़ लिखे से नहीं है, उन्हे नौकरी मिल जा रही है ।जीवन भी अब सरल नही रहा और उससे भी बड़ी समस्या यह है कि कोई सरल जीवन जीना भी नही चाहता ।पता नहीं इसका अन्त क्या होगा ।शायद समय ही इसका समाधान दे ।विश्लेषक ।


topic of the week



latest from jagran